अशरा मुबारका १४४१ हि. प्रोग्राम: मुंबई, ह्युस्टन, लन्दन और आलमे ईमान में रिले

हुदात किराम ने एक नादिर और मुबारक रसम की है कि हर साल की इब्तेदा हम इमाम हुसैन स.अ. की ज़िकर और नोहे से करते है, और इमाम हुसैन के तुफैल में आले मोहम्मद के इल्म की बरकत दस दिन तक लेते है. इमामुज़ ज़मान के दाई के हाथ पर यह बरकत हासिल करना, एक बहुत बड़ी नेमत है. इस बरकत से हमारा अज़म आनेवाले वर्ष के लिए मज़बूत होता है और आख़ेरत में दरजात बलन्द होते है.

अल-दाई अल-अजल अल-फातेमी सैयदना ताहेर फखरुद्दीन त.उ.श. अशरा मुबारका १४४१ हि. की वाअज़ मुंबई, दारुस सकीना में अक़्द फरमाएंगे, इंशाअल्लाह.

सैयदना त.उ.श. ने करम और एहसान फरमाकर अशरा मुबारका में आपकी पहली ३ वाअज़ के आलमे ईमान में  लाइव रिले के लिए रज़ा फ़रमाई है.सैयदना त.उ.श. वाअज़ मुबारक के लिए दोपहर ४ बजे तख्ते इमामी पर जलवा नुमा होंगे. वाअज़ बाद मगरिब और इशा की नमाज़ होगी और नमाज़ बाद नियाज़ होगी इंशाअल्लाह. आशूरा (९ सितम्बर) के दिन के मुताल्लिक जानकारी आइंदा दी जाएगी. वाअज़ मुबारक की रिकॉर्डिंग लाइव रिले के बाद भी उपलब्ध होगी.

सैयदनात.उ.श. ने करम और एहसान फरमाकर शेह्ज़ादा डॉ. अज़ीज़ भाईसाहब कुत्बुद्दीन को ह्युस्टन (अमरीका) में अशरा मुबारका की वाअज़ की खिदमत  के लिए रज़ा फ़रमाई है. शेह्ज़ादा डॉ. अज़ीज़ भाईसाहब की वाअज़ मोहर्रमुल हराम की ५ वी तारीख से रिले की जाएगी इंशाअल्लाह.वाअज़ मुबारक दोपहर ५:४५ बजे (सेन्ट्रल स्टेंडर्ड टाइम) शुरू होगी. वाअज़ बाद मगरिब और इशा की नमाज़ होगी और नमाज़ बाद नियाज़ होगी इंशाअल्लाह. आशूरा (९ सितम्बर) के दिन के मुताल्लिक जानकारी आइंदा दी जाएगी. वाअज़ की रिकॉर्डिंग लाइव रिले के बाद भी उपलब्ध होगी. ज़ियादा जानकारी के लिए जूज़र भाई हाजी को संपर्क करें. ([email protected], +1-832-315-5152)

सैयदनात.उ.श. ने करम और एहसान फरमाकर डॉ. मोइज़ भाईसाहब मोहयिद्दीन को लन्दन में अशरा मुबारका की वाअज़ की खिदमत के लिए रज़ा फ़रमाई है. वाअज़ की मजलिस शाम ६ बजे शुरू होगी. वाअज़ बाद मगरिब और इशा की नमाज़ होगी और नमाज़ बाद नियाज़ होगी इंशाअल्लाह. आशूरा के दिन (९ सितम्बर) के मुताल्लिक जानकारी आइंदा दी जाएगी. ज़ियादा जानकारी के लिए कुसइ भाई जाफरजी को संपर्क करें. ([email protected], 07459 203951). प्रोग्राम की जानकारी के लिए jamaat.london/ashara-mubaraka-1441h पर क्लिक करें.

इमाम हुसैन स.अ. के दाई सैयदना फखरुद्दीन त.उ.श. की मजलिस में हाज़िर होकर मुमिनीन बरकात हासिल करें. सैयदना त.उ.श. मुमिनीन को वाअज़ में हाज़िर होने के लिए तरग़ीब फ़रमाते है. जो मुमिनीन मुंबई, ह्युस्टन और लन्दन में वाअज़ में हाज़िर न हो सके, वे मोहर्रमुल हराम की ५ वी तारीख से शेह्ज़ादा डॉ. अज़ीज़ भाईसाहब कुत्बुद्दीन की वाअज़ का रिले यूट्यूब पर देख सकते है. वाअज़  मुबारक की रिकॉर्डिंग लाइव रिले के बाद भी एक मुद्दत तक उपलब्ध होगी.