मुमेनीन इस मुबारक मौके पर बरकात ले और यह अमल करे:

सैयदना त.उ.श. का सबक: आलिमे आले मोहम्मद, सैयदना ताहेर फखरुद्दीन त.उ.श. सैयदना खुज़ैमा क़ुत्बुद्दीन रि.अ. के मीलाद के दिन Zoom पर सबक के लिए तशरीफ़ लाएँगे. सबक में हाज़िर होने की रज़ा के लिए १)  +917867865354 पर sabaq, यह लफ्ज़ वॉट्सएप करें, या २) [email protected] पर ईमेल करें, या ३) इस लिंक पर क्लिक करें

  • सैयदना खुज़ैमा क़ुत्बुद्दीन रि.अ. के मीलाद के मुबारक मीक़ात  पर, सोमवार, १४ दिसंबर, आका मौला सैयदना ताहेर फखरुद्दीन त.उ.श. सुबह ६:४५ बजे (इंडियन टाइम) दरीस और मीलाद मुबारक की ख़ुशी की मजलिस में तशरीफ़ लाएँगे. मजलिस Zoom पर लाइव रिले की जाएगी. मुमिनीन मजलिस में शामिल होकर बरकात हासिल करें. 
  • सैयदना कुत्बुद्दीन (री.अ.) की याद में और आपका वसीला लेने के लिए दरीस की तिलावत करे.
  • सैयदना ताहेर फखरुद्दीन (त.उ.श.) ने तसनीफ किया हुआ कसीदा मुबारका “या खैर मो’तरफिन बिल मज्दे वल करमी” की तिलावत करे. यह कसीदा आपने सैयदना कुत्बुद्दीन के मीलाद के मौके पर १४३६ ही. में तसनीफ फरमाया है. (ऑडियो रिकॉर्डिंग और अंग्रेज़ी तर्जुमा वेबसाईट पर उपलब्ध है) 
  • शेहज़ादी बज़त ताहेरा बाईसाहेबा ने जो मदेह लिखी है उसकी तिलावत करे.

२ साल पहले, सैयदना क़ुत्बुद्दीन रि.अ. ने बेकर्सफिल्ड, केलिफोर्निया में आपका आख़िरी बयान मुबारक फ़रमाया. उस बयान में सैयदना क़ुत्बुद्दीन रि.अ. ने फ़रमाया कि आप मौला की ७९ वी मीलाद है और आपने मुमिनीन के लिए बहुत दोआएँ फ़रमाई. आपने फ़रमाया कि “अल-वलदुल अग़र ताहेर, उसकी विलादत इस महीने की २६ वी तारीख है. दोनों दाई के मीलाद के दरमियान. ५२ वे दाई और ५३ वे दाई. दोनों बरकात मिली. यह मसर्रत भी मनाता हूँ.”