उर्स मुबारक के मौके पर मुमिनीन इस तरह अमल करें:

  • सैयदना हुसामुद्दीन रि.अ. और सैयदना बुरहानुद्दीन रि.अ. की नियत पर खतमुल कुरआन पढ़े
  • सैयदना ताहेर सैफुद्दीन ने ४८ और ४९ व़े दाई की शान में कसीदा मुबारका “سلام على داعيي ذي الجلال” तसनीफ फरमाया है, वह तिलावत करे (ऑडियो रेकोर्डिंग वेबसाईटपर पेश है)
  • याकूततो दावतिल हक्क शहज़ादी डॉ. बज़त ताहेरा बाइसाहेबा ने दावत की जुबान में लिखे सलाम, जिसमें आप ने ४८ व़े और ४९ व़े दाई की शानात और अखबार की ज़िक्र की है, मुमिनीन इस सलाम की तिलावत करें