४ थी रबीउल आखर १४४० हि शेहज़ादा डॉ. हुसैन भाईसाहेब बुरहानुद्दीन दारुस सकीना, मुंबई में मगरिब इशा की नमाज़ बाद इमाम उज़ ज़मान स.अ. की मीलाद की ख़ुशी की मजलीस में तशरीफ़ लाएंगे। मजलीस बाद मुमिनीन को ख़ुशी के खाने पर इज़न है।

मुमिनीन यह अमल करे