हमारे हुदात किराम ने यह बेहतर रस्म की है कि हम आका हुसैन स.अ. की ज़िक्र पर नए साल की शुरुआत करते है. इमाम हुसैन स.अ. की ज़िक्र के तुफैल में मुमिनीन को आले मोहम्मद के इल्म की बरकत अशरा मुबारका के दस दिन में नसीब होती है.

साल १४४३ हि. में अल दाई अल अजल अल फातेमी सैयदना ताहेर फखरुद्दीन त.उ.श. अशरा मुबारका की वाअज़ दारुस सकीना बेकर्सफिल्ड, केलिफोर्निया में अक़्द फरमाएँगे, इंशाअल्लाह. सैयदना त.उ.श. की वाअज़ मुबारक सुबह ९ बजे (इंडियन टाइम) लाइव रिले की जाएगी. रिले के बाद वाअज़ मुबारक की रिकॉर्डिंग भी पेश की जाएगी. मुमिनीन वाअज़ में मजलिस की आदाब का ख़याल रखें, गोया रूबरू मजलिस में हाज़िर हो.

तारीख दूसरी मोहर्रम से आठ वाअज़ों का रिले सुबह ९ बजे (इंडियन टाइम) शुरू होगा. अशरा मुबारका १४४३ हि. की वाअज़ों की लिंक के लिए यहाँ क्लिक करें.

इमामुज़ ज़मान स.अ. के दाई के साथ यह बरकात नसीब हो यह बहुत बड़ी नेअमत है. इस नेअमत से जान की रौशनी बढ़ती है. आखेरत में दरजात बलंद होते है. अधिक जानकारी के लिए [email protected] पर ईमेल करें.