सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन (री.अ.) मीलाद

मौलानल मुकद्दस फी आला इल्लियीन सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन (री.अ.) के मीलाद मुबारक की रात, २० वी रबीउल आखर की रात (शनिवार, ६ जनवरी २०१८), सैयदना ताहेर फखरुद्दीन (त.उ.श.) दारुस सकीना मुंबई में, मगरिब और इशा की नमाज़ में तशरीफ़ लाएँगे और उसके बाद मीलाद मुबारक की ख़ुशी की मजलिस में जलवा अफरोज होंगे. मजलिस में सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन (री.अ.) का वसीला लेते हुए आपकी नियत पर दरीस की तिलावत की जाएगी. मजलिस के बाद मुमेनीन को आका मौला (त.उ.श.) के तरफ से सलवात और खुशी की दावत का इज़न है.

मुमेनीन से यह गुजारिश है कि वे प्रोग्राम की जानकारी हासिल करने के लिए अपने इलाके के मसूल से संपर्क करें और यह अमल करे.


सैयदना ताहेर फखरुद्दीन (त.उ.श.) मीलाद

तारीख २६ वी रबीउल आखर दाइज़ ज़मान सैयदना ताहेर फखरुद्दीन (त.उ.श.) के मीलादे मैमून का मुबारक दिन है.

सैयदना ताहेर फखरुद्दीन (त.उ.श.) २६ वी रबीउल आखर (शनिवार, १३ जनवरी) के दिन, दोपहर १२ बजे ईवाने फातेमी, दारुस सकीना, मुंबई में ख़ुशी की मजलिस में जलवा नुमा होंगे. मजलिस के बाद ज़ोहर-असर की नमाज़ होगी. मजलिस के बाद तमाम मुमेनीन मुमेनात को सलवात और ख़ुशी की दावत का इज़न है.

मुमेनात के लिए “वधाने का प्रोग्राम” मीलाद के दिन (२६ वी रबीउल आखर) शाम ४ बजे होगा इंशाअल्लाह.

२७ वी तारीख, शेहरे रबीउल आखर (रविवार, १४ जनवरी २०१८)

सुबह मुमेनीन मुमेनात और फरज़न्दों के लिए स्पोर्ट्स का प्रोग्राम होगा और उसके बाद शाम ५ बजे मदरसा के बच्चों का प्रोग्राम होगा.

२८ वी रात, शेहरे रबीउल आखर (रविवार, १४ जनवरी २०१८)

सैयदना (त.उ.श.) मगरिब और इशा की नमाज़ में तशरीफ़ लाएँगे और उसके बाद मुमेनीन जो हमेशा सबक में हाज़िर होते है, उन्हें मौलाना (त.उ.श.) सबक में इल्मे लदुन्नी की बरकात अता फरमाएँगे. सबक के बाद तमाम मुमेनीन मुमेनात को सलवात की दावत का इज़न है.

मुमेनीन से यह गुजारिश है कि वे प्रोग्राम सम्बंधित जानकारी हासिल करने के लिए अपने इलाके के मसूल से संपर्क करें और यह अमल करे.


सैयदना खुज़ैमां कुत्बुद्दीन (री.अ.) मीलाद

मौलानल मुकद्दस फी आला इल्लियीन सैयदना खुज़ैमां कुत्बुद्दीन (री.अ.) के मीलाद मुबारक की रात, २९ वी रबीउल आखर की रात (सोमवार, १५ जनवरी २०१८), सैयदना ताहेर फखरुद्दीन (त.उ.श.) दारुस सकीना, मुंबई में मगरिब और इशा की नमाज़ में तशरीफ़ लाएँगे और नमाज़ के बाद मीलाद मुबारक की ख़ुशी की मजलिस में जलवा नुमा होंगे. मजलिस में सैयदना खुज़ैमां कुत्बुद्दीन (री.अ.) का वसीला लेकर आपकी नियत पर दरीस की तिलावत की जाएगी. मजलिस के बाद मुमेनीन को सलवात और खुशी की दावत का इज़न है.

मुमेनीन से यह गुजारिश है कि वे प्रोग्राम सम्बंधित जानकारी हासिल करने के लिए अपने इलाके के मसूल से संपर्क करें और यह अमल करे.