क्या मीसाक देने में इख़्तियार है? क्या मीसाक एक गुलामी का बंधन है?

खुदा तआला ने कुराने मजीद में मीसाक की ज़िक्र ७० से ज़्यादा जगहों पर फ़रमाई है. मीसाक की माअना क्या है? मीसाक की ज़रुरत क्यों है? और हर ज़मान में जो साहेबुल हक़ हैं, इमाम या सतर के ज़मान में उनके दाई, उन्हें मीसाक देना वाजिब क्यों है? मीसाक देने से ही नजात हासिल हो सकती है - ऐसा क्यों?

मजालिसुल हिक्मत की १३ वी मजलिस में सैयदना फखरुद्दीन त.उ.श. इन सवालों के जवाब फरमाते हैं.