खुदा तआला कुराने मजीद में फरमाते है कि आज हमने तुम्हारे दीन को कामिल किया, नेअमत तमाम की और इस्लाम के दीन को ख़ुश कर दिया (सुरतुल माएदा : ३)

तो यह दिन - जिस दिन में दीन कामिल हुआ - यह दिन सबसे अहम दिन है यह कुरान समझाता है - यह कौन सा दिन है? इस्लाम के दीन का इस दिन में कामिल होने का क्या सबब है?

तो हर मुस्लिम और मुमिन को यह सबब जानना लाज़िम है. यह जाने बगैर क्या दीन क़ामिल है?

मजालिसुल हिक्मत की २३ वी मजलिस में सैयदना ताहेर फखरुद्दीन त.उ.श. इन सवालों के जवाब फरमाते हैं.